हैप्पी होम के सिखाये गुर

Total Views : 377
Zoom In Zoom Out Read Later Print

बेंगलूरु (परिवर्तन)। अग्रवाल समाज कर्नाटक रजि की ओर से रविवार 12 मई सुबह 10.30 बजे सेंट जोसफ ऑडिटोरियम, बेंगलुरु में बीएपीएस स्वामीनारायण संस्था अक्षरधाम नई दिल्ली के ज्ञानवत्सल स्वामीजी के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। स्वामीजी ने कहा कि समय के सही उपयोग से ही व्यक्ति जीवन में सफलता प्राप्त करता है।

महापुरुषों ने भी समय को समझा और उसका सही उपयोग किया। सारे महापुरुष इसी दुनिया में हुए हैं। अपने बीच से ही निकलें हैं। आदमी को सबसे ज्यादा आनन्द के बारे में सवाल करते हुए कहा कि हर आदमी का यही उत्तर होगा कि अपने परिवार के साथ ही सबसे ज्यादा आनन्द आता है। हैप्पी होम का पहला गुर यही बताया कि अपने परिवार के साथ समय बिताएं। आज इस न्यूक्लियर वल्र्ड में परिवार भी सिंगल फैलमी में बदलते जा रहे हैं। अगर परिवार के मुखिया अपने बच्चों को समय नहीं देते जिसके कारण बच्चों में संस्कार नहीं पनपते हैं। उन्होंने उदाहरण देकर बताया कि देश के बहुत बडे कपड़ा व्यापारी ने जैसे ही अपनी करोड़ों की सम्पत्ति बेटे के नाम की तो बेटे ने बाप को किराये के मकान में भेज दिया। पैसे से संस्कार नहीं दिए जा सकते हैं। संस्कार पल्लवित करने के लिए स्वयं को परिवार के लिए अपने बच्चों के लिए समय निकालना पड़ता है। उन्हें समय देना पड़ता है। स्वामीजी ने आज के समय में समाज में बढ़ रहे तलाक व परिवार विच्छेद के विषय पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि आज हम अपनी बेटियों को ससुराल भेजते हैं तो कहते हैं कि बेटा चिंता मत करना अगर दिक्कत हो तो फोन कर देना, जबकि कहना यह चाहिए कि बेटा देखो अब वही तेरा घर है, त्याग और सामंजस्य ही तेरा जीवन है। दाम्पत्य जीवन त्याग और किसी भी परिस्थिति में ढल जाना, अहंकार त्याग कर रहने का नाम है। स्वमीजी ने घर में होने वाली छोटी बड़ी बहस के समय चुप रहना ही सकारात्मक जीवन बताया। उन्होंने कहा कि व्यक्ति को झुकना आना चाहिए। झुकने से व्यक्ति टूटता नहीं है बल्कि उसमें और अधिक बल आता है। उन्होंने कहा कि बड़े बंगले या झौपड़ों से नहीं बल्कि परिवार से बनता है हैप्पी होम। परिवार में आपसी सामंजस्य एवं प्रेमभाव, सदस्यों का एक-दूसरे के लिए त्याग, समर्पण और प्रेम व समय ही हैप्पी होम का निर्माण करता है। 
कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रगान से की गई इसके बाद दीप प्रज्वलन तथा श्री अग्रसेन महाराज एवं लक्ष्मीजी को पुष्पहार  चढ़ाया। ज्ञानवत्सल स्वामीजी का स्वागत अग्रवाल समाज के अध्यक्ष संजय गर्ग, सचिव विजय सराफ एवं अन्य कार्याकरिणी के सदस्यों ने किया। कार्यक्रम हैप्पी होम में स्वामीजी ने सुखमय वैवाहिक जीवन जीने के गुर सीखये। जिसमें परिवार के प्रति अपनी जिम्मेदारी और अपने समय का उपयोग एवं परिवार में मिलजूल कर रहने के गुर बताये।
इस कार्यक्रम में सभी भूतपूर्व अग्रवाल समाज एवं अग्रसेन भवन के अध्यक्षों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के संयोजक मुरली अग्रवाल एवं संजय मोहता और कार्यक्रम का प्रबंध ललित अग्रवाल एवं श्रीकांत केडिआ ने किया।

See More

Latest Photos