क्या आप भी चीनी लाइट्स से रोशन कर रहे हैं अपना घर?

Total Views : 830
Zoom In Zoom Out Read Later Print

बेंगलूरु, (परिवर्तन)।

क्या आप भी चीनी लाइट्स से अपने घर को रोशन कर रहे हैं। बाजार में ऐसे कई चीनी प्रोडक्ट हैं, जिनका आप इस्तेमाल धड़ल्ले से करते हैं, लेकिन शायद आपको इस बात का अंदाजा तक नहीं है कि भारतीय ग्राहकों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले इन्हीं वस्तुओं के मुनाफे को चीन किस दिशा में इस्तेमाल कर रहा है। आज हम भारतीय टूथब्रश से लेकर गाड़ियों के मेजर पार्ट्स तक के लिए चीन पर निर्भर हैं। चीन से आयातित वस्तुओं का जो मुनाफा चीन कमा रहा है उससे वो हमारे ही देश के खिलाफ अपनी सैन्य शक्ति को मज़बूत कर रहा है। आने वाले दिनों में चीन की यह मंशा और विकराल रूप न ले लें, इसीलिए हमें अपने रोज़ाना की जिंदगी से चीन पर निर्भरशीलता को खत्म करना होगा। ऐसे में आपको यह जान कर आश्चर्य होगा कि भारतीय बाजार में घर को रोशन करने वाली एक अकेले लाइट्स की श्रेणी में चीन सालाना हजारों करोड़ रुपए का लाभ कमा रहा है। 

एक अनुमान के मुताबिक भारत में चीन की लाइटें का सालाना कारोबार 5000 से 6000 करोड़ रुपये तक का है। एक कारोबारी ने बताया कि चीन ने बाजार में अपनी पकड़ केवल कम कीमतों की वजह से बनाई हुई है। जिसके फलस्वरूप भारतीय बाजार पीछे चल रहा है। भारत की लाइटों की बात करें तो यहां वैराइटी की भी कमी है। पिछले साल चीन की 10 फीट की एलईडी सिर्फ 30 रुपये की मिलती थी, जो इस बार 50 रुपये की है। दूसरी ओर भारत की एलईडी अभी भी 30 रुपये की ही बिक रही है। लेकिन ग्राहकों का कहना है कि भारतीय लाइट में रोशनी कम है। ग्राहकों ने कहा कि वो भारत में बनी लाइटें खरीदना तो चाहते हैं, लेकिन वैराइटी नहीं होने के कारण उन्हें चाइनीज लाइट खरीदनी पड़ती हैं। इस तरह बाजार पर चीन का कब्जा बरकरार है।

लाइट्स : भारतीय बाजार पर चीन का कब्ज़ा 

कुछ प्रमुख व्यापारियों से बात कर इसे समझने की कोशिश की। उनकी माने तो दीपावली पर डेकोरेटिव इंडियन लाइट्स की मार्केट पूरी तरह से खत्म हो चुकी है। डेकोरेटिव लाइट्स के टोटल का मात्र 10 परसेंट भी मार्केट भी नहीं रह गया है। पूरी मार्केट पर चाइनीज मार्केट का कैप्चर हो गया है। व्यापारियों की माने तो जीरो वॉट के कलर बल्ब की कीमत 10 रुपए से कम नहीं है। उसके बाद वायर, मैन पॉवर के बाद 30 बल्ब की एक लड़ी 400 रुपए तक बैठती है। साथ जिसे लोग बिल्कुल भी पसंद नहीं कर रहे हैं।

वहीं शहर में चाइनीज डेकोरेटिव लाइट्स का मार्केट 90 से 95 परसेंट से ऊपर पहुंच चुका है। जानकारों की माने तो केवल दीपावली पर ही नहीं बल्कि अन्य कई त्योहारों के अवसर पर लोग इन्हें खरीदते हैं। पिछली बार दीपावली के समय हुए व्यापार के आंकड़ों की मानें तो उस दौरान चीनी लाइट्स का मार्केट करीब दो करोड़ के करीब रहा। वैसे पिछले वर्ष की तुलना में काफी कम है। पिछले वर्ष इन लाइट्स का कारोबार 2.5-3 करोड़ के बीच में था। चीनी वस्तुओं की कम कीमत की वजह से देश के हर व्यवसायिक क्षेत्र का बाज़ार काफी कमजोर हो रहा है। जिसका असर इस क्षेत्र में भी रहा।

बिजली कम खर्चने का झांसा

चाइनीज डेकोरेटिव लाइट्स बेचने के कारोबारी इस बात का भी दावा करते हैं कि आम लाइट्स के मुकाबले इनसे कम बिजली खर्च होंगी। इन लाइट्स की वायर कॉपर की होने का दावा किया जाता हैं। जबकि जानकारों की माने तो लागत कम करने की वजह से इसकी वायर लोहे की आ रही है। जिससे बिजली खर्च भी बढ़ रहा है। एक घंटे में 20 से 40 वॉट बिजली ये चाइनीज लाइट्स खर्च कर रही हैं। जो काफी ज्यादा है।

भारतीय खरीदें आत्मनिर्भर बनें

भारत की कई ऐसी कंपनियां हों जो लाइट्स के व्यापार में अग्रणी हैं। हालांकि चाइनीज लाइट्स में इतने विविधता है कि इससे भारतीय डेकोरेटिव लाइट्स का बाजार मंदा पड़ जाता है। खरीददार कहते हैं कि बाजार में चाइनीज लाइट्स काफी किफायती दामों में उपलब्ध हैं। 


क्या है लाइट्स की कीमतें


भारतीय लाइट्स 

झालर

60 रूपये से शुरू

ग्लोब लाइट

60 रूपये से शुरू

एलइडी बल्व

35 रूपये से शुरू


चाइनीज लाइट्स

झालर

30 रूपये से शुरू

ग्लोब लाइट

40 रूपये से शुरू

एलइडी बल्व

30 रूपये से शुरू


भारत में उपलब्ध अन्य लाइट्स की कीमत

आइटम

कीमत

सिंपल एलईडी        

20 - 100 रुपये

एलईडी लड़ी        

40 - 550 रुपये

डबल एलईडी वायर    

36 रुपये मीटर

सिंगल एलईडी वायर    

26 रुपये मीटर

फ्लोटिंग कैंडल         

30 - 50 रुपये

इलेक्ट्रिक दीये        

150 रुपये (20 पीस)

स्टैंडिंग इलेक्ट्रिक दीये    

80 - 150 रुपये

इलेक्ट्रिक मोमबत्ती     

120 रुपये


भारत में प्रसिद्ध एलईडी कंपनियां एवं उनके उत्पाद

  • फिलिप्स (नीदरलैंड)

फिलिप्स एलईडी उत्पाद प्रकार : बल्ब, वॉल लाइट्स, सिलिंग लाइट्स, ट्यूब लाइट्स, स्पॉट लाइट्स, डाउनलाइट्स, डेस्क / टेबल लाइट्स, सस्पेंशन लाइट्स और सजावट लाइट।

  • ओसराम (भारत)

ओसराम लाइट्स के प्रकार : लैम्प्स, स्पॉट लाइट्स, ट्यूब लाइट्स, पेंडेंट ल्यूमिनरीज़, वॉल ल्यूमिनरीज़, सीलिंग ल्यूमिनरीज़, बैटन ल्यूमिनरीज़, डेको लाइट्स, कैबिनेट लाइट्स के तहत, रिक्यून्ड ल्यूमिनरीज़, फ़्लोर ल्यूमिनरीज़, टेबल लाइट्स, नाइट लाइट्स, स्ट्रिंग लाइट्स, फ्लड लाइट्स एंड स्पॉट्स, कैम्पिंग लाइट्स और स्ट्रीट लाइट्स।

  • हेवेल्स (भारत)

हैवेल्स एलईडी उत्पाद प्रकार : लैंप, स्पॉट लाइट, डाउन लाइट, सीओबी फिक्स्चर, डेकोर वॉल / सिलिंग लाइट्स, ट्यूब लाइट, लैंडस्केप लाइट, कमर्शियल लाइट और स्ट्रीट लाइट।

  • विप्रो (भारत)

विप्रो एलईडी उत्पादों के प्रकार : बल्ब, डाऊनलाइट्स, रिसेस / सरफेस माउंटेड ल्यूमिनेयर, सस्पेंडेड लुमिनायर्स, लिनियर लैंप, डेस्क लाइट्स, बैटन लाइट्स, फ्लेक्सिबल स्ट्रिप लाइट्स और स्ट्रीट लाइट्स

  • बजाज (भारत)

बजाज एलईडी उत्पादों के प्रकार : बल्ब, डाउन लाइट्स, स्पॉट लाइट्स, ट्यूब लाइट्स, फ्लेक्सी स्ट्रिप्स, हाईबे ल्यूमिनाइर्स, स्ट्रीट लाइट्स, लैंडस्केप लाइट्स और फ्लड लाइट्स।

  • एवरेडी (भारत)

एवरेडी एलईडी उत्पादों के प्रकार: बल्ब, स्पॉट लाइट, डाउन लाइट और डेको लाइट

एवरेडी एलईडी फ्लैशलाइट्स : डिजीलड टॉर्च, अल्ट्राएलईडी टॉर्च

  • सिस्का (भारत)

सिस्का एलईडी उत्पादों के प्रकार : लैम्प, ट्यूब लाइट्स, डाउन लाइट्स, पैनल लाइट्स, स्ट्रिप लाइट्स, मल्टीबॉक्स लाइट्स, ट्रैक लाइट्स, मॉइस्चर प्रूफ लाइट्स, फ्लड / बीम लाइट्स, हाय-बे, टनल लाइट्स, इंडस्ट्रियल लाइट्स, पोर्टेबल लाइट्स, कॉर्न लाइट्स, स्ट्रीट लाइट्स, गार्डन लाइट्स ब्लैक / व्हाइट, गार्डन / वॉल लाइट्स, पार्किंग लाइट्स

  • ओरिवा (भारत)

ओरिवा एलईडी उत्पादों के प्रकार : लैंप, नाइट लैम्प, डाउन लाइट, पैनल लाइट, स्पॉट लाइट, ट्यूब लाइट और स्ट्रीट लाइट

  • मोजर वियर

मोजर बियर एलईडी उत्पादों के प्रकार : बल्ब, पैनल लाइट्स, हाई बे लाइट्स, स्ट्रीट लाइट्स, डाउन लाइट्स और ट्यूब लाइट्स

  • सुर्या (भारत)

सूर्या एलईडी उत्पादों के प्रकार : लैम्प्स, स्पॉट लाइट्स, बैटन्स, डेकोरेटिव लिमिनेरीज़, डाउन लाइट्स, स्ट्रिप लाइट्स, स्ट्रीट लाइट्स, फैकेड लाइट्स, हाई-बेय्स लिमिनेरीज़ और लिनियर लैम्प्स


See More

Latest Photos