वीवीआईपी के लिए क्या कानून अलग होते हैं?

Total Views : 1,487
Zoom In Zoom Out Read Later Print

बेंगलूरु, (परिवर्तन)। पिछले दिनों कर्नाटक में बेंगलूरु के पास स्थित रामनगर से एक खबर आई। इस खबर को सुन कर एक ओर जहां लोगों को गुस्सा आया तो वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार पर कई सवालिया निशान भी खड़े किए गए। कोरोना वायरस महामारी के रूप में न केवल देश में बल्कि पूरे विश्व में फैल चुका है।

शहर के शहर, राज्य के राज्य और देश के देश, सभी जगहों पर लॉकडाउन घोषित किया गया है। लेकिन अगर लॉकडाउन के नियमों को तोड़ने की पहल कोई बड़ी पार्टी का नेता ही करें तो इस गैर ज़िम्मेदाराना हरकत पर आप क्या कहेंगे।  दरअसल बात ये है कि बीते दिनों भारत के पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के पोते, कर्नाटक राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री तथा जनता दल (सेक्युलर) पार्टी के अध्यक्ष एचडी कुमारस्वामी के बेटे निखिल की शादी का आयोजन बड़े ही धूमधाम से किया गया। और फिर चर्चाओं का सिलसिला शुरू हो गया। क्योंकि इस भव्य विवाह समारोह का आयोजन ऐसे समय पर किया गया जब कर्नाटक समेत पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी। जब कर्नाटक के पूर्व सीएम कुमारस्वामी से पूछा गया कि क्या आपने शादी के लिए प्रशासन से इजाजत ली थी, तो उन्होंने कहा कि हां शादी के कार्यक्रम के लिए जिलाधिकारी से अनुमति ली थी। उन्होंने यह भी बताया कि इस शादी समारोह में सिर्फ परिवार के लोग (ब्लड रिलेटिव) ही शामिल रहे। इसमें किसी भी बाहरी को आमंत्रित नहीं किया गया था। कुमारस्वामी ने कहा, 'मैं कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री को चुनौती देता हूं कि अगर हमने कुछ गलत किया है, तो वो कार्रवाई करें।'

लॉकडाउन के नियमों की उड़ाई धज्जियां

एक मीडिया चैनल को दिए अपने बयान में कुमारस्वामी ने अपने बेटे की शादी के आयोजन को लेकर बात करते हुए कहा, हमने शादी से पहले सभी प्रकार की सावधानियां बरती थीं। इसमें कुछ भी गलत नहीं था। हालांकि मैं नहीं जानता कि आखिर कुछ मीडिया के साथी इस मामले को उछालकर देश को गुमराह क्यों कर रहे हैं?' शादी के दौरान किसी के भी मास्क न लगाए जाने पर जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने तर्क दिया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइड लाइन में मास्क लगाना जरूरी नहीं है, जबकि पूर्व मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को इसका अंजादा नहीं है कि मास्क लगाना नियमों के अधीन है। जब उनसे सवाल किया गया कि भारत में तो मास्क लगाना अनिवार्य किया गया है, इस पर कुमारस्वामी ने कहा कि वहां मास्क लगाने की कोई जरूरत नहीं थी। दरअसल, शुक्रवार को कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के बेटे निखिल गौड़ा की शादी थी। इस समारोह में लॉकडाउन की भी धज्जी उड़ाई गई और सोशल डिस्टेंसिंग की भी ख्याल नहीं रखा गया। इसके बाद कुमारस्वामी ने दावा किया था कि हमने शादी के लिए राज्य सरकार से इजाजत ली है और परिवार के कुछ सदस्यों की मौजूदगी में ही शादी को संपन्न कराया जाएगा। लेकिन जो तस्वीरें पूर्व मुख्यमंत्री के परिवार द्वारा सोशल मीडिया में रिलीज़ किया गया, उनमें स्पष्ट दिख रहा है कि लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं किया गया। शादी स्थल में विशेष रूप से मीडिया के जाने पर पाबंदी लगाई गई थी। देश के इतने गरिमामय पदों पर बैठने के बाद देश हित को अनदेखा किया जाता है तो सवाल खड़े करना लाज़मी भी है और जरूरी भी। इस प्रकार के गैर ज़िम्मेदाराना हरकत से आज देश के लाखों लोगों की जान को ख़तरा हो सकता है। राजनीतिक विषेशज्ञ कहते हैं कि इस प्रकार की लापरवाही को नज़रअंदाज नहीं किया जाना चाहिए और गौड़ा परिवार के खिलाफ कार्रवाई होनी बेहद जरूरी है। 

हाई-वे क्यों किया बंद, पुलिस की भूमिका संदेहास्पद

चश्मदीदों ने वहां उपस्थित समाचार परिवर्तन के प्रतिनिधि को बताया किपुरव् मुख्यमंत्री के बेटे निखिल की शादी के लिए बेंगलूरु - मैसूरु हाई-वे को शुक्रवार दोपहर तक बंद कर दिया गया था। इस दौरान स्थानीय पुलिस प्रशासन द्वारा स्वास्थ कर्मियों, मीडिया कर्मियों एवं बैंक कर्मियों समेत अन्य कई आपातकालीन स्थिति में फंसे ट्रैवलिंग पासेस धारकों को भी हाई-वे से गुजरने नहीं दिया गया। 

इस बीच कई लोग आपातकालीन परिस्थितियों के बीच फंसे रहे तो कुछ लोगों को अन्य रूट का सहारा लेना पड़ा, जो उन्हें काफी लंबा भी पड़ा। 

किसी निजी कार्यक्रम को लेकर हाई-वे को पुलिस प्रशासन द्वारा किसकी अनुमति से ब्लॉक किया गया, इसकी जांच होनी चाहिए। तथा आदेश पारित करने वाले अधिकारी या उच्च पद पर पदासीन मंत्री के खिलाफ सख़्त कार्रवाई होनी चाहिए। सावल यह उठता है कि इतने बड़े आयोजन को लेकर राज्य सरकार ने कोई एहतियाद क्यों नहीं बरती। क्या किसी शादी ब्याह या किसी अन्य आयोजन के लिए ये समय सही है। अगर इस आयोजन के बाद कोरोना वायरस का कहर बढ़ता है तो क्या वह केंद्र और राज्य सरकार की ज़िम्मेदारी होगी। 

बीएस येदियुरप्पा का धन्यवाद : कुमारस्वामी

निखिल गौड़ा की शादी में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा समेत उनके मंत्री मंडल के कई मंत्रियों ने हिस्सा लिया। इतना ही नहीं बल्कि भाजपा पार्टी के कई प्रमुख नेता भी इस समारोह में शामिल हुए। इस पर पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कथित तौर पर लॉकडाउन के नियमों को तोड़कर बेटे की शादी करने को लेकर उपजे विवाद पर परिवार का साथ देने के लिए मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को धन्यवाद दिया। कुमारस्वामी ने कहा, मैं येदियुरप्पा का दिल से उस बयान के लिए धन्यवाद देता हूं जिसमें उन्होंने कहा कि राज्य के बड़े राजनीतिक परिवार ने सादगी से विवाह समारोह का आयोजन किया।

See More

Latest Photos