हिन्दू राष्ट्र बनेंगे भारत, नेपाल और भूटान : शंकराचार्य

Total Views : 103
Zoom In Zoom Out Read Later Print

कोलकाता, (परिवर्तन)। पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने भारत, नेपाल और भूटान को हिंदू राष्ट्र घोषित होने का दावा किया है। सोमवार को गंगासागर तीर्थ पर उन्होंने पत्रकारों से बात की।

इस दौरान शंकराचार्य ने कहा कि इस देश का विभाजन एक बार धर्म के आधार पर हो चुका है। अब एक बार फिर अयोध्या, मथुरा, वृंदावन जैसी पुण्यभूमि को छीनने की कोशिश हो रही है लेकिन यह कभी सफल नहीं होगा। भारत, नेपाल तथा भूटान सबसे पहले हिन्दू राष्ट्र घोषित होंगे। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर देश के अलग-अलग हिस्सों में जारी विरोध के बीच पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती ने कहा कि भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित किया जाना चाहिए। सरस्वती ने कहा कि दुनिया के कुल 204 देशों में से कई को मुस्लिम और ईसाई देश घोषित किया गया है, जबकि हिन्दुओं के लिए ऐसा कोई देश नहीं है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में हिन्दू राष्ट्र नहीं हैं। ऐसे में पहले चरण में भारत, नेपाल और भूटान को हिन्दू राष्ट्र घोषित करना संयुक्त राष्ट्र की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि बाकी देशों में सताए जा रहे हिन्दुओं को इन तीन देशों में पुनर्वासित किया जाना चाहिए। शंकराचार्य ने कहा कि यदि कोई मुस्लिम किसी अन्य देश में खुद को उपेक्षित महसूस करता है और किसी विशेष राष्ट्र को छोड़ना चाहता है, तो उसे किसी भी मुस्लिम राष्ट्र में पुनर्वासित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के बंटवारे में महात्मा गांधी की बहुत बड़ी भूमिका थी और आज एक बार फिर देश को बांटने की कोशिश हो रही है। उन्होंने नागरिकता अधिनियम की जरूरत को सराहा और कहा कि भारत में सुरक्षा के लिए अगर कोई नया कानून बना है तो उसका स्वागत होना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत ही एक ऐसा देश है जहां हिंदू सुरक्षित रह सकते हैं, भविष्य में भी इसकी सुरक्षा सुनिश्चित होनी ही चाहिए। इसके अलावा गंगासागर को पिकनिक स्पॉट के तौर पर बदलते जाने को लेकर भी उन्होंने चिंता जाहिर की। शंकराचार्य ने कहा कि गंगासागर एक महत्वपूर्ण तीर्थ है। इसे पिकनिक केंद्र नहीं बनाया जाना चाहिए। राज्य सरकार को विशेष तौर पर इसका ख्याल रखना होगा।

See More

Latest Photos