लोगों ने दलबदलुओं को स्‍वीकार कर लिया

Total Views : 132
Zoom In Zoom Out Read Later Print

बेंगलूरु, (परिवर्तन)। कर्नाटक विधानसभा की 15 सीटों के लिए हुए उपचुनाव के नतीजे आ चुके हैं। नतीजों के मुताबिक सबसे ज्‍यादा नुकसान कांग्रेस को हुआ है।

बीजेपी कांग्रेस के गढ़ से कई सीटें छीन चुकी है। कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता डीके शिवकुमार ने कहा कि हम हार स्‍वीकार कर रहे हैं। हमें जनादेश से सहमत होना ही होगा। लोगों ने दलबदलुओं को स्‍वीकार कर लिया है। बता दें कि जुलाई में कर्नाटक के 17 विधायकों ने इस्‍तीफा दे दिया था। इनमें 15 सीटों के लिए उपचुनाव कराया गया। 

'कांग्रेस को कोई भी खत्‍म नहीं कर सकता है'

नतीजों से साफ है कि राज्‍य में कांग्रेस-जनता दल सेक्‍युलर गठबंधन बुरी तरह बिखर गया है। शिवकुमार ने कहा कि हमें इन 15 विधानसभा क्षेत्रों के मतदाताओं के जनादेश से सहमत होना होगा। स्‍पष्‍ट नजर आ रहा है कि मतदाताओं ने दलबदलुओं को स्‍वीकार कर लिया है। वहीं, सत्‍तारूढ़ दल को उपचुनाव में थोड़ा फायदा मिलता ही है। इस सब के बाद भी हमने अपनी हार स्‍वीकार कर ली है। हमें निराश होने की कोई जरूरत नहीं है। उपचुनाव और चुनाव में बड़ा फर्क होता है। नतीजों को कोई भी नहीं नकार सकता है। राज्‍य में अब भी कांग्रेस की स्थिति काफी मजबूत है। कांग्रेस राज्‍य से खत्‍म नहीं हो सकती है। कोई भी कांग्रेस को खत्‍म नहीं कर सकता है। शिवकुमार ने राजनीति और खेती की तुलना करते हुए कहा कि दोनों के लिए तैयारी और विशेष योजना की दरकार होती है। हमें अपनी गलतियों को पहचान कर उनसे निपटना होगा। उन्‍होंने कहा कि मैं कर्नाटक के लोगों की नब्‍ज पहचानता हूं। हमने कई चुनाव लड़े हैं। लोगों का मन कभी भी बदल सकता है। हम इसी तरह से सियासी गणित बनाते हैं। इसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि सत्‍तारूढ़ दल को उपचुनाव में फायदा मिलता है। ध्‍यान रहे कि दलबदल किसी एक ही पार्टी के साथ नहीं हो सकता है। लोग दूसरी पार्टियों को छोड़कर कांग्रेस में भी आ सकते हैं।

See More

Latest Photos