तीस हजारी कोर्ट में झड़प के खिलाफ दिल्ली की सभी अदालतों में वकील काम का बहिष्कार करेंगे

Total Views : 90
Zoom In Zoom Out Read Later Print

नई दिल्ली, (परिवर्तन)। तीस हजारी कोर्ट में पिछले 2 नवम्बर को पुलिस और वकीलों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद दिल्ली की सभी अदालतों में वकील अपने काम का बहिष्कार करेंगे।

ऑल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट कोआर्डिनेशन कमेटी के अलावा सभी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के बार एसोसिएशन ने वकीलों से न्यायिक काम के बहिष्कार करने का फैसला किया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष महावीर सिंह और सचिव विष्णु शर्मा ने  वकीलों से काम के बहिष्कार करने की अपील की है। कड़कड़डूमा कोर्ट की शाहदरा बार एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रमोद नागर ने 4 नवम्बर को सभी वकीलों से न्यायिक काम के बहिष्कार करने का आह्वान किया है। कड़कड़डूमा कोर्ट के वकीलों ने पिछले 2 नवम्बर को भी सड़क पर निकलकर विरोध प्रदर्शन किया था। दिल्ली बार काउंसिल ने इस झड़प में गंभीर रूप से घायल एक वकील को दो लाख रुपये और दूसरे घायल वकीलों को 50-50 हजार रुपये देने के अलावा उनके इलाज का खर्च वहन करने फैसला किया है। दिल्ली हाईकोर्ट ने तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हुए हिंसा के मामले पर सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार, दिल्ली सरकार, बार काउंसिल ऑफ इंडिया, दिल्ली बार काउंसिल और दिल्ली के सभी डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के बार एसोसिएशन को नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने आज ही तीन बजे सभी बार एसोसिएशन के प्रतिनिधियों को बजे कोर्ट में पेश होने का निर्देश दिया है। चीफ जस्टिस डीएन पटेल ने आज सुबह वरिष्ठ जजों और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद इस मामले पर स्वतः संज्ञान लिया। सुनवाई करने के बाद कोर्ट ने सभी पक्षों को नोटिस जारी किया। इससे पहले चीफ जस्टिस डीएन पटेल ने कल यानि 2 नवम्बर की रात में वरिष्ठ जजों के साथ बैठक की थी। हाईकोर्ट के तीन जजों ने कल झड़प में घायल वकील का हालचाल जानने सेंट स्टीफेंस अस्पताल गए थे।

See More

Latest Photos