कैमरे के लिए सफाई

Total Views : 99
Zoom In Zoom Out Read Later Print

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ शिखर वार्ता से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने महाबलीपुरम समुद्र तट पर 'प्लॉगिंग' की।

उन्होंने सुबह की सैर के दौरान समुद्र तट से प्लास्टिक का कूड़ा, पानी की बोतलें और दूसरे प्रकार का कचरा उठाकर देश को स्वच्छता का संदेश दिया। मोदी ने ट्विटर पर तीन मिनट का एक वीडियो जारी किया जिसमें वह कूड़ा एकत्र करते हुए नजर आए। मालूम हो कि यहां उनके दौरे से पहले पूरे इलाके को साफ कर दिया गया था तो क्या यह ‘नाटक’ था?  चूंकि मोदी का दौरा पहले से तय था तो समुद्र तट के साथ ही जहां वह ठहरे हुए थे उस होटल जोन में वातावरण संरक्षण कर्मियों ने मशीनों का इस्तेमाल कर साफ-सफाई के सभी काम पूरे कर लिए थे। इन सबके बाद इलाके में कचरा होने का कोई मतलब ही नहीं बनता। फिर कैसे उनकी सुबह की सैर के दौरान अचानक कचरा आ जाता है?’’ अगर वहां कूड़ा था तो क्या यह राज्य सरकार की कोताही नहीं दिखाता। क्या प्रधानमंत्री मोदी के कूड़ा बीनने का नाटक रचने के लिए वहां कचरा फेंका गया?’  इस वीडियो को इंटरनेट पर खूब वायरल किया गया और प्रधानमंत्री की प्रशंसा देश भर के ही नहीं बल्कि विश्व भर के राजनीतिज्ञों ने की। इससे पहले भी कुंभ मेले के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ऐसा ही एक वीडियो वायरल किया गया था, जिसमें ये दिखाया गया कि कैसे वे कार्पेट के ऊपर बैठ कर सफाई कर्मियों के साथ कचड़ा चुन रहे थे और यहां भी वीडियो ऑन कर उन्होंने प्लॉगिंग की। इससे साफ जाहिर होता है कि ये एकमात्र कैमरे के लिए किया गया सफाई अभियान है। प्रधानमंत्री मोदी ही नहीं बल्कि विश्व के अन्य कई देशों के प्रधानमंत्री एवं राष्ट्रपतियों द्वारा इस प्रकार के प्रचार कार्य किए जाते हैं।  गौरतलब है कि इस साल स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मोदी ने देश को एकल उपयोग प्लास्टिक से मुक्त बनाने के अभियान की घोषणा की थी। हालांकि ये सच है कि प्रधानमंत्री ने ऐसा करके स्वच्छ भारत अभियान में अपनी उत्सुकता जाहिर की।

See More

Latest Photos